Desh Ka VVIP Ped : एक पत्ता भी टूट जाए तो मच जाता है हड़कंप, जानिए क्यों खास है ये VVIP पेड़

न्यूज़ डेस्क। हमारे देश में कई ऐसी अनोखी चीजें, अनोखे स्थान हैं जिनके बारे में हम सब नहीं जानते हैं। ऐसा ही एक अनोखा या यूं कहें कि वीवीआईपी पेड़ भी है हमारे देश में जिसका मेडिकल चेकअप होता है। इसकी सुरक्षा में 24 घंटे पुलिस तैनात रहती है और अगर इसका एक पत्ता भी टूटकर गिर जाए तो हड़कंप मच जाता है। जी हां, ये वीवीआईपी पेड़ है मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल और विदिशा के बीच रायसेन जिले के सलामतपुर की पहाड़ी पर। इस पेड़ की सुरक्षा में 4 सुरक्षाकर्मी स्थाई रूप से 24*7 तैनात रहते हैं।

ये पेड़ इसलिए खास है क्योंकि यह बोधी वृक्ष है और इसे श्रीलंका के राष्ट्रपति ने यहां आकर रोपा था। ज्ञात हो कि 21 सितंबर 2012 को श्रीलंका के तत्कालीन राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे सलामतपुर पहाड़ी पर गए थे और उन्होंने यहां प्रस्तावित बौध्द विश्वविद्यालय के भूमि पूजन समारोह में इस बोधि वृक्ष को लगाया था।

इस पेड़ की खास बात यह भी है कि इस पेड़ का किसी वीआईपी इंसान की तरह मेडिकल चेकअप किया जाता है। इसका एक पत्ता भी टूटकर गिरता है तो इसकी रिपोर्ट भोपाल में उच्च स्तर तक जाती है। दूर से देखने पर आपको ये एक सामान्य तौर पर पीपल का पेड़ लगेगा, लेकिन इसकी ऐसी कड़ी सुरक्षा को देख आपको भी लगेगा कि ये पेड़ बेहद खास है।

ये पेड़ 15 फीट ऊंची जालियों से घिरा हुआ है और इसकी खास देखभाल होती है। इस पेड़ के स्वास्थ्य का भी ध्यान किसी इंसान की तरह ही रखा जाता है। इस पेड़ की बकायदा 15 दिनों में एक बार सरकार जांच करवाती है। जरूरी खाद और पानी की व्यवस्था भी की जाती है। सरकार की भी कोशिश रहती है कि पेड़ का एक पत्ता भी टूटने नहीं पाए। इसलिए 24 घंटे सुरक्षा की जाती है। इसके लिए चारों तरफ चार पुलिस के जवान इसकी सुरक्षा में 24 घंटे तैनात रहते हैं।

इस पेड़ को फैंसिंग से सुरक्षित रखा गया है। यदि एक पत्ता भी टूटता है तो इसकी रिपोर्ट भोपाल में सरकार में उच्च स्तर पर ली जाती है। इसका एक पत्ता भी सूख जाता है तो प्रशासन में हलचल मच जाती है। सरकार ने इसके लिए खास व्यवस्था भी कर रखी है। इसकी देखरेख उद्यानिकी विभाग, राजस्व, पुलिस और सांची नगरपरिषद मिलकर करते हैं. ये सभी विभाग इस बोधि वृक्ष का ध्यान रखने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं।

संबंधित समाचार

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.