Cyclone Burevi: ‘निवार’ के बाद, चक्रवात बुरेवी मचाने आ रहा तबाही, मौसम विभाग ने 3 दिसंबर को जारी किया भारी बारिश का रेड अलर्ट

नई दिल्ली। चक्रवात निवार के हफ्तेभर के अंदर फिर से एक और चक्रवात दस्तक देने वाला है। दक्षिण पश्चिम बंगाल की खाड़ी पर गहरे दबाव के क्षेत्र ने मजबूत होकर चक्रवाती तूफान ‘बुरेवी’ का रूप ले लिया है और आज रात श्रीलंकाई तट से इसके टकराने की आशंका है। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने बुरेवी चक्रवात को लेकर चेतावनी जारी है। मौसम विभाग ने केरल के 4 राज्यों- तिरुवनंतपुरम, कोल्लम, पठानमथिट्टा और अलाप्पुझा में 3 दिसंबर के लिए रेड अलर्ट जारी किया है।

IMD ने एक बुलेटिन में कहा है कि श्रीलंका के त्रिंकोमाली पहुंचने के बाद बुरेवी के मन्नार की खाड़ी और तमिलनाडु में कन्याकुमारी के आसपास कोमोरिन इलाके की ओर आने की आशंका है। विभाग ने बताया कि उसके बाद वह पश्चिम-दक्षिण पश्चिम की ओर बढ़ेगा और चार दिसंबर की सुबह कन्याकुमारी और पम्बन के बीच दक्षिण तमिलनाडु तट को पार करेगा।

मौसम विभाग ने आगे बताया कि बुधवार को दोपहर 2:30 बजे, चक्रवाती तूफान श्रीलंका से 110 किमी उत्तर-पूर्व, तमिलनाडु के पम्बन से 330 किमी दक्षिण-पूर्व और कन्याकुमारी से 520 किलोमीटर उत्तर-पूर्व में बना हुआ था। विभाग का कहना है कि 3 दिसंबर को दोपहर में चक्रवात की गति 70-80 किलोमीटर प्रति घंटे होगी और यह पम्बन के काफी करीब होगा। इसके बाद, यह दोपहर तक पम्बन में लगभग पश्चिम-दक्षिण की ओर बढ़ेगा।

2 और 3 दिसंबर को दक्षिण तमिलनाडु (कन्याकुमारी, तिरुनेलवेली, थुथुकुडी, तेनकासी, रामनाथपुरम और सिवागंगई) में कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा होने की संभावना है। वहीं, 2 और 3 दिसंबर को ही आंध्र प्रदेश के दक्षिण तटीय वाले इलाकों और 3 और 4 दिसंबर को लक्षद्वीप में भारी वर्षा होने की संभावना है। तिरुवनंतपुरम जिला प्रशासन ने चक्रवात बुरेवी के मद्देनजर 48 गांवों में विशेष अलर्ट जारी किया है। हालांकि, राहत की बात यह है कि बुरेवी के निवार की तरह तीव्र होने की आशंका नहीं है।

चक्रवात बुरेवी के आने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन से बात की है। पीएम मोदी ने फोन पर बात करके तैयारियों का जायजा भी लिया है। केरल के सीएम पिनराई विजयन ने कहा, ”मैंने प्रधानमंत्री को चक्रवात को लेकर राज्य की तैयारियों के बारे में जानकारी दी है।”

संबंधित समाचार

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.