घोघा गौठान के महिला समूह ने 58 क्विंटल वर्मी खाद बेच कर कमाया लाभ, सुराजी गांव योजना का सपना होने लगा साकार

रायपुर। छत्तीसगढ़ शासन की महत्वकांक्षी योजना नरवा, गरवा, घुरवा और बाड़ी से ग्रामीणों को अब लाभ मिलने लगा है। कबीरधाम जिले के आदर्श गौठान घोंघा विकासखण्ड बोड़ला में रविदास स्वसहायता समूह की महिलाओं द्वारा गौठान के गोबर से वर्मीकम्पोस्ट खाद बेचकर आर्थिक लाभ लिया जा रहा है। उद्यानिकी विभाग को समूह ने 55 क्विंटल वर्मीकम्पोस्ट 10 रूपये प्रति किलो के दर से विक्रय किया है। समूह द्वारा निर्मित खाद की मांग शासकीय विभागों के साथ-साथ निजी संस्थानों द्वारा भी की गई है। मुख्य रूप से जिले में काम करने वाले…

चला चली गौठान देखे-हमर गौठान, हमर योगदान, गांव सुराजी योजना में गहरी दिलचस्पी ली नवनिर्वाचित पंचायत प्रतिनिधियों ने

रायपुर(बीएनएस)। आज ‘‘चला चली गौठान देखे-हमर गौठान, हमर योगदान‘‘ के तहत् प्रत्येक माह जनसहभागिता के लिए गौठान भ्रमण कराकर जिला प्रशासन के द्वारा जिले के विभिन्न तबके के लोगों व छात्र-छात्राओं को राज्य शासन की महत्वाकांक्षी योजना नरवा, गरूवा, घुरूवा और बाड़ी के अंतर्गत गौठान परिकल्पना से अवगत कराया जा रहा है। इस माह गौठान भ्रमण के लिए जिला प्रशासन सूरजपुर द्वारा ग्राम पंचायत के जनप्रधिनिधियों (नवनिर्वाचित सरपंच, पंच व सदस्य) को कलेक्टर दीपक सोनी एवं मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत अश्वनी देवांगन के निर्देशन व मार्गदर्शन में जिले के…

जब हार्वर्ड के स्टूडेंट्स ने सराहा छत्तीसगढ़ की नरवा, गरवा, घुरवा और बाड़ी योजना, हार्वर्ड में अध्ययनरत छात्रों ने की मुख्यमंत्री से मुलाकात

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 15 फरवरी हाॅर्वर्ड यूनिवर्सिटी में कॉस्ट एंड पॉलिटिक्स विषय पर व्याख्यान दिए। इस अवसर पर श्री बघेल ने उपस्थित हार्वर्ड के स्टूडेंट्स को विशेषकर नरवा, गरवा घुरवा और बाड़ी योजना के विषय में विस्तृत जानकारी दी। वहां के स्टूडेंट ने इस कॉन्सेप्ट को गंभीरता से सुना और इस नए यूनिक योजना की तारीफ की। कार्यक्रम के मॉडरेटर डॉ. सुरज एंगड़े रहे। उन्होंने कॉस्ट एंड पॉलिटिक्स पर विस्तार से चर्चा किया। हार्वर्ड विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं को प्रदेश की महत्वाकांक्षी योजना नरवा, गरवा, घुरवा और बारी ने इतना…

इको फ्रेंडली सामग्रियों के निर्माण से महिलाओं ने बनायी अलग पहचान : गोबर का गमला, दिया, अगरबत्ती, एलोविरा साबुन तैयार कर बनीं आत्मनिर्भर

रायपुर। कुछ कर गुजरने की चाह हो तो संभावनाएं भी खुद बन जाती है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल पर तैयार गौठान भी महिलाओं के लिए नयी संभावनाओं के कई अवसर लेकर आए हैं। अर्थ उपार्जन और रोजगार की ये नयी संभावनाएं अब फलीभूत होते दिख रही हैं। एक छोटे से गांव बैहार की महिलाओं ने गौठान से मिले इस अवसर का लाभ उठाकर अपनी कर्मठता और उद्यमिता से एक अलग पहचान बनाई है। रायपुर से आरंग-सरायपाली होकर उडीसा जाने वाले नेशनल हाईवे के किनारे बसे बैहार की स्व-सहायता समूह…

अब गौठानों में गोबर से बन रहे गमले : समूह की महिलाओं के लिए खुले आय के नये रास्ते, बना रहीं गोबर के गमले

रायपुर(बीएनएस)। गौठान के गोबर से बने कम्पोस्ट, दिये और अन्य उपयोगी सामानों को लोगों की अच्छी प्रतिक्रिया मिलने के बाद अब दुर्ग जिले में समूह की महिलाएं गोबर से गमले तैयार कर रही हैं। इन गमलों को नर्सरी में विक्रय किया जाएगा। नर्सरी के लिए यह गमले काफी उपयोगी होंगे क्योंकि गोबर में जैविक खाद के काफी गुण होते हैं,इसके अलावा इसमें काली, पीली मिट्टी और भूसे का भी उपयोग किया जा रहा है। इन सबके मिश्रण से पौधे के लिए खाद का अच्छा स्रोत तैयार होता है। अतः पौधे…

नरवा विकास योजना कैम्पा द्वारा 20 से 24 जनवरी तक वनमण्डल स्तरीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन

रायपुर(बीएनएस)। राज्य शासन की महत्वकांक्षी ’नरवा विकास योजना’ के सफल क्रियान्वयन के लिए 20 से 24 जनवरी तक वनमंडल स्तरीय एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। छत्तीसगढ़ प्रतिकरात्मक वनरोपण निधि प्रबंधन और योजना प्राधिकरण (कैम्पा) के मुख्य कार्यपालन अधिकारी व्ही. श्रीनिवास राव ने बताया कि प्रधान मुख्य वन संरक्षक राकेश चतुर्वेदी के मार्गदर्शन में आयोजित कार्यक्रम में संबंधित विभागीय अधिकारियों को आई.सी.आर.जी. के प्रतिनिधियों द्वारा प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसके तहत 20 जनवरी को दुर्ग वन वृृत्त के अंतर्गत वनमण्डल कवर्धा और कांकेर वन वृत्त के अंतर्गत वनमण्डल…

गौठानों में गोबर से बन रहे गमले, स्व-सहायता समूह की महिलाएं इन्हें नर्सरी में विक्रय करने कर रही तैयार

रायपुर। मॉडल गौठानों में नवाचारों के माध्यम से महिला स्वसहायता समूहों के लिए अधिकतम अवसर देने के क्रम में दुर्ग जिले के पाहंदा, ढौर, अमलीडीह, बोरवाय, ढाबा जैसे मॉडल गौठानों में गोबर के माध्यम से गमलें बनाये जा रहे हैं। इसके लिए जिला पंचायत के द्वारा महिला स्व-सहायता समूहों को प्रशिक्षण उपलब्ध कराया गया है और बाजार भी चिन्हांकित किया है। इन गमलों को नर्सरी में विक्रय किया जाएगा। नर्सरी के लिए यह गमले काफी उपयोगी होंगे क्योंकि ये गोबर से बनाये गए हैं जो गोबर खाद की तरह उपयोग…

गीदम के मवेशियों को मिला नया ठौर, गोठान बनने से ग्रामीणों में मवेशियों की सुरक्षा की चिंता हुई कम

रायपुर। सुकमा जिले के रामपुरम ग्राम पंचायत के आश्रित गांव गीदम के ग्रामीण गांव में नया गोठान बनने से खुश नजर आने लगे हैं। राष्ट्रीय राजमार्ग 30 के किनारे बसे इन ग्रामीणों के पशु अक्सर यहां से गुजरने वाली वाहनों से दुर्घटनाग्रस्त हो जाते थे, इसके साथ ही आसपास वन क्षेत्र होने के कारण छोटे मवेशियों को वन्य पशु अपना शिकार बना लेते थे, अब गांव में सुरक्षित गोठान बनने से पशुओं की सुरक्षा की चिंता से ग्रामीणों को काफी राहत मिली गई है। यहीं गोठान के पास रहने वाले…

नरवा योजना में पुरकेला के खेतों को मिलने लगा भरपूर पानी

रायपुर। राज्य सरकार के चार महत्वपूर्ण योजनाओं में से नरवा योजना से सरगुजा जिले के लुण्ड्रा जनपद के पुरकेला गांव के खेतों को भरपूर पानी मिलने लगा है। यहीं नहीं गांव के निवासियों को निस्तारी की भी सुविधा भी मिली है। पुरकेला गांव में बनाए गए आदर्श गौठान के पास बहने वाले नरवा में मिट्टी से बंधान बनाया गया है। बंधान बन जाने से नरवा में इस वर्ष भारी मात्रा में पानी इकठ्ठा हुआ है। पुरकेला के 25-30 किसान पम्प लगाकर नरवा के पानी से अपने खेतों में फसलों की…

ठाकुर प्यारे लाल राज्य पंचायत एवं ग्रामीण विकास संस्था बनचरौदा ने प्रस्तुत किया आदर्श गोठान का मूर्त रूप

रायपुर। “नरवा,गरवा,घुरवा,बाड़ी“ योजना ने अब जमीन में मुर्त रूप लेकर गांव के लोगों, किसानों और वहां के युवाओं एवं महिलाओं को स्वरोजगार का अवसर देते हुए ग्रामीण अर्थव्यवस्था को आधार देने का कार्य शुरू कर दिया है। इसका आदर्श उदाहरण रायपुर जिले के आरंग विकासखंड के ग्राम बनचरौदा के गोठान ने प्रस्तुत किया है। ठाकुर प्यारे लाल राज्य पंचायत एवं ग्रामीण विकास संस्था, निमोरा ने राज्य के विभिन्न जिलों के ग्राम गोठान स्थाई समितियों प्रशिक्षित करने वाले मास्टर टेªनर्स को प्रशिक्षण देने के लिए बनचरौदा का चयन किया है। यहां…