मकर संक्रांति आज, पर यूं पूरे विधि-विधान से करें सूर्य पूजा तो प्रसन्न होंगे भुवन भास्कर, जानें महत्व व शुभ मुहूर्त

धर्म डेस्क। मकर संक्रांति साल का पहला त्योहार है और इस पर्व की धूम हमारे देश के हर हिस्से में देखी जा सकती है। इस बार यह पर्व 14 जनवरी 2021, गुरुवार को मनाया जा रहा है। इस दिन सूर्य देव धनु राशि को छोड़कर मकर राशि में प्रवेश करते हैं और उनके इसी राशि परिवर्तन को संक्रांति कहते हैं। मकर राशि में उनका प्रवेश होने के कारण इस त्योहार का नाम मकर संक्रांति पड़ गया। इसी दिन से सूर्य उत्तरायण होते हैं और सभी शुभ व मंगल कार्यों की…

मकर संक्रांति आज, अनंत गुणा फल देने वाले त्योहार मकर संक्रांति पर हजारों श्रद्धालुओं ने लगाई गंगा में आस्था की डुबकी

धर्म डेस्क। देशभर में मकर संक्राति की धूम है, आज सुबह से ही श्रद्धालुगण गंगा घाटों पर पुण्य की डुबकी लगा रहे हैं। इलाहाबाद हो या काशी, हर जगह के गंगा घाटों पर लाखों श्रद्धालुओं का हुजूम दिखाई पड़ रहा है। कोरोना महामारी, घने कोहरे और हाड़ कंपा देने वाली सर्दी के बावजूद भक्तों ने सूरज की पहली किरण के साथ ही गंगा में स्नान किया है। माना जाता है कि इस दिन राशियों का बड़ा महत्व होता है और सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करते हैं।…

महादेव को प्रिय इस पौधे में होता है बुद्धिदाता भगवान गणेश का निवास, घर में लगाने से नहीं होता टोने टोटके का असर

घर्म डेस्क। अपने घर के आसपास किसी बंजर भूमि पर आपने हरे रंग की गोल पत्तियों वाले पौधे को जरूर देखा होगा। इस पर सफेद रंग के फूल होते हैं।बहुत से लोग इसे जंगली पौधा मानकर अनदेखा कर देते हैं। इस पौधे को सामान्य भाषा में मदार, आक और अकउआ या फुड़हर के नाम से जाना जाता है। अगर आप भी ऐसा करते आए हैं तो अब से मत कीजिएगा क्योंकि ये कोई सामान्य पौधा नहीं होता। धार्मिक मान्यता है कि इस पौधे में स्वयं बुद्धि प्रदाता भगवान गणेश का…

सूर्य ग्रहण 2020 : साल का अंतिम सूर्य ग्रहण आज, बन रहा गुरु चंडाल योग, इन बातों का रखें विशेष ध्‍यान, जानिए कब और कितने बजे तक लगेगा

नई दिल्ली। साल का आखिरी सूर्य ग्रहण आज है। यह खंडग्रास होगा और भारत में दिखाई नहीं देगा। इस वजह से ग्रहण का सूतक काल भी मान्य नहीं होगा। फिर भी ज्योतिष में माना जाता है कि ग्रहण का असर व्यक्ति के जीवन पर जरूर पड़ता है। इसलिए हम आपको बता रहे हैं कि सूर्य ग्रहण के दौरान हमें क्या करना चाहिए, जिससे इसका प्रभाव कम हो सके और किसी प्रकार की नकारात्मक ऊर्जा घर में न आए। सूर्य ग्रहण वृश्चिक राशि और ज्येष्ठा नक्षत्र में लगेगा। भारतीय समय के…

चंद्रग्रहण 2020: आज लगने जा रहा है साल का आखिरी चंद्र ग्रहण, भूल कर भी न करे ये गलतियां..

नई दिल्ली। साल 2020 का आखिरी चंद्रग्रहण आज (30 नवंबर 2020, सोमवार) कार्तिक पूर्णिमा को पड़ेगा। यह ग्रणह भारत समेत कई देशों में पड़ेगा। 30 नवंबर 2020 को पड़ने वाला चंद्रग्रहण साल 2020 का आखिरी चंद्रग्रहण होगा। ग्रहण दोपहर 01:04 बजे से आरम्भ होगा और शाम 5:22 पर समाप्त होगा। जानकारों के अनुसार, यह एक उपच्छाया ग्रहण होगा जिसे आंख से देखा नहीं जा सकेगा। भारत में इस ग्रहण का असर कुछ खास नहीं होगा। साल का आखिरी ग्रहण, सूर्य ग्रहण होगा जो 14 दिसंबर 2020 को पड़ेगा। ज्योतिष शास्त्र…

श्री गुरु नानक देव जी का 551 वां प्रकाश पर्व आज, कोरोना काल में बदला रहेगा आयोजन का स्वरूप

धर्म डेस्क। श्री गुरु नानक देव जी का 551 वां प्रकाश पर्व आज 30 नवंबर को मनाया जाएगा। लेकिन इस बार आयोजन का स्वरूप बदला जा रहा है। ऐतिहासिक गुरुद्वारा श्री गुरु तेग बहादुर साहिब जी यहियागंज के सचिव मनमोहन सिंह हैप्पी ने बताया कि कोविड-19 महामारी के चलते आयोजन में इस बारी प्रमुख बदलाव किए गए हैं। उन्होंने कहा कि करोना की स्थिति को देखते हुए काफी जरूरी था हालांकि गुरु पर्व के मौके पर ऐतिहासिक गुरुद्वारा साहिब में संपूर्ण समागम पूर्व की तरह आयोजित किया जाएगा। इस अवसर…

कार्तिक पूर्णिमा 2020: जाने क्या है कार्तिक पूर्णिमा का महत्व, क्यों की जाती है तुलसी पूजा, पढ़ें पूजन विधि और शुभ मुहूर्त के बारे में भी, क्या है इस दिन स्नान और दान का विशेष महत्व

नई दिल्ली। कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष में आने वाली पूर्णिमा, कार्तिक पूर्णिमा कहलाती है। इस दिन गंगा स्नान, दीपदान, यज्ञ और ईश्वर की उपासना की जाती है। कार्तिक पूर्णिमा के दिन गंगा स्नान और दान करना दस यज्ञों के समान पुण्यकारी माना जाता है। कार्तिक पूर्णिमा के दिन ही देव दीपावली भी मनाई जाती है। कार्तिक पूर्णिमा की शुरुआत 29 नवंबर को दोपहर 12 बजकर 47 मिनट से ही हो जाएगी जो अगले दिन यानी 30 नवंबर को दोपहर 2 बजकर 59 मिनट तक रहेगी। इस पूर्णिमा से जुड़ी…

तुलसी विवाह 2020: इस शुभ मुहूर्त पर करें तुलसी विवाह, पूरी होंगी सभी मनोकामनाएं , देवउठनी एकादशी, तुलसी पूजा में अर्पित करें ये चीजें, ऐसे विधि विधान से करे पूजा

नई दिल्ली। कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवोत्थान यानी देवउठनी एकादशी का पर्व मनाया जाता है। देवउठनी एकादशी को हरिप्रबोधिनी एकादशी व देवोत्थान एकादशी के नाम से भी जाना जाता हैं। इस दिन उपवास रखने का विशेष महत्व है। इस दिन तुलसी विवाह भी आयोजित किया जाता है। इस एकादशी पर तुलसी विवाह का सबसे ज्यादा महत्व होता है। देवउठनी एकादशी को छोटी दिवाली के रूप मे मनाया जाता है। इस दिन लोग अपने घरों में दीपक भी जलाते हैं। देवउठनी एकादशी के दिन विधि विधान के…

क्रोध के बदले क्रोध और प्रेम के बदले प्रेम ही मिलता है, पढ़ें ये कहानी..

धर्म डेस्क। हमारे देश में एक कहावत आम है- जो बोओगे, वही काटोगे। इसका सीधा सा अर्थ यह है कि अपना भविष्य तय करना मनुष्य के ही हाथों में होता है। मनुष्य अपने पूरे जीवन में जिस तरह का आचरण करता है, आगे चलकर वही उसके पास लौटता है। यदि कोई मनुष्य जीवन भर सबसे प्रेमपूर्ण व्यवहार करता है, तो बदले में संसार भर का प्रेम उसके हिस्से आता है। इसके विपरीत यदि कोई व्यक्ति हर किसी से क्रोध, हिंसा, चिढ़, भय की भावना से व्यवहार करता है, वह केवल…

दिवाली 2020: दिवाली पर इन 5 जगहों पर भी है दीपक जलाने का नियम, मां लक्ष्मी आएंगी आपके द्वार

धर्म डेस्क। दिवाली का दिन ऐसा दिन होता है जब सभी मां लक्ष्मी के घर में आगमन की कामना करते हैं। इस दिन घर में सभी जगह लोग दीपक जलाते हैं। मां लक्ष्मी का शुभ मुहर्त में पूजन करने के बाद दीपक जलाए जाते हैं। आपको ज्ञात हो कि दीपक तेल और घी दोनों के जलाएं जाते हैं। दीपक खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखें कि घर में दीपकों की संख्या शुभ संख्या में होनी चाहिए। जैसे -51, 101, 151 आदि। सबसे पहला दीपक माता लक्ष्मी के सामने…